Poems

राष्ट्रीय खेल दिवस पर कविता – National Sports Day Poem In Hindi

राष्ट्रीय खेल दिवस पर कविता - National Sports Day Poem In Hindi

राष्ट्रीय खेल दिवस पर कविता: इस दिन को पहली बार वर्ष 2012 में जश्न के दिनों की सूची में शामिल किया गया था। राष्ट्रीय खेल दिवस देश के उत्साही खेल प्रेमियों के लिए आकर्षण का केंद्र है। राष्ट्रीय खेल दिवस मनाने के पीछे मुख्य कारण खेल भावना की भावना को प्रदर्शित करना और विभिन्न खेलों के संदेश का प्रचार करना है। खेल आपको शारीरिक रूप से मजबूत और मानसिक रूप से स्वस्थ बनाता है. मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि मनुष्य की खेलों में रुचि स्वाभाविक है. पी. साइरन ने कहा है कि “अच्छा स्वास्थ एवं अच्छी समझ जीवन के दो सर्वोत्तम वरदान है.“ आज में आपके साथ इस पोस्ट राष्ट्रीय खेल दिवस पर कविता – National Sports Day Poem In Hindi के माध्यम से राष्ट्रीय खेल दिवस पर अनमोल विचार साँझा कर रहा हु |

राष्ट्रीय खेल दिवस पर कविता इन हिंदी

खेल में भी करियर बनाने लगे है युवा,
अपने हुनर का दम दिखाने लगे है युवा,
जो उनके खेलने के खिलाफ थे
अब उनको भी अपने खेल से चौकाने लगे है युवा।

मौका नहीं मिलता बेटियों को
इस बात का गम है,
जिन बेटियों को मौका मिला
उन्होंने दिखाया अपना दम है.
कुछ भी कर सकती है बेटियां
उन्होंने ये कर के दिखाया है,
कई गोल्ड मेडल लाकर
पूरी दुनिया को बताया है.

राष्ट्रीय खेल दिवस पर कविता

राष्ट्रीय खेल दिवस पर कविता - National Sports Day Poem In Hindi

बच्चे हो या बूढ़े सबको पसंद है खेल-कूद,
खेलों से अच्छा हो जाता हमारा मूड.

ताकत के साथ-साथ बढ़ता है दिमाग,
पूरे शरीर में लगती है तंदरूस्ती की आग.

खेलने से होता है बीमारियों का नाश,
खेल भी एक आहार है अपने लिए ख़ास.

मेहनत और विश्वास से हम भी होंगे बड़े,
पदक जीतकर सबसे आगे होंगे खड़े.

पढ़ाई के साथ-साथ खेल भी जरूरी है,
दोनों आपस में जुडी हुई एक कड़ी है.

National Sports Day Poem In Hindi

खूब करिश्मा दिखाता है बैट,
हुनरमंद हाथों में जब आता है बैट,
कोहली का साथ हो तो
चौका-छक्का खूब लगता है बैट.

क्रिकेट में सबको बल्लेबाजी भाती है,
पर सबको बल्लेबाजी कहाँ आती है,
रोहित शर्मा थोड़ी देर टिक जाए तो
बैट निश्चित ही शतक बनाती है.

अच्छे बॉल पर भी रन लाता है बैट,
जब अच्छे खिलाड़ी के हाथों में आता है बैट,
जो खिलाड़ी खेल नहीं पाते है
उनको आउट करवाता है बैट.

Poem on National Sports Day in Hindi

आशा करता हु आपको हमारी ये पोस्ट “राष्ट्रीय खेल दिवस पर कविता – National Sports Day Poem In Hindi”अच्छी लगेगी इसी तरह के और पोस्ट राष्ट्रीय खेल दिवस पर कविता, राष्ट्रीय खेल दिवस पर हिंदी कविता, राष्ट्रीय खेल दिवस पर शायरी, राष्ट्रीय खेल दिवस पर अनमोल विचार, राष्ट्रीय खेल दिवस पर भाषण, Poem on National Sports Day in Hindi, National Sports Day Poem In Hindi 2020, National Sports Day Quotes In Hindi, National Sports Day Poem In English आप यह से पढ़ सकते है और इन्हे आसानी से साँझा कर सकते है

दर्शको से ताली खूब बजवाता है बैट,
सबके हृदय में ख़ुशी की लहर दौड़ाता है बैट,
जीत की उम्मीद लगी रहती है
जब धोनी के हाथों में होता है बैट.

अच्छी खिलाड़ी के हाथो में ही भाता है बैट,
अच्छी गेंद पर आउट हो जाता है बैट,
थोड़ा सा सबको मायूस कर जाता है बैट
जो दिखलाये चतुराई उसको जीत दिलाता है बैट.

सिंधु, साक्षी और दीपा ने,
गौरव देश का बढ़ाया है,
अपने उच्च प्रदर्शन से रियो ओलंपिक में,
भारत को सम्मान दिलाया है,
बेटियां कम नहीं है बेटो से,
ये सबको अहसास दिलाया है,
अपने मातपिता, परिवार के संग,
देश का सिर गर्व से ऊँचा उठाया है,
रखती हैं हौसला बेटियां भी,
छूने का बुलंदियां आसमान की,
उनको गर पंख फैलाने दो,
पहचान उन्हें भी बनाने दो,
ऐसा करिश्मा इन बेटियों ने,
करके दिखलाया है,
अपनी मेहनत और लगन से,
ओलिम्पक खेल में नया इतिहास रचाया है।।

National Sports Day Poem In Hindi 2020

राष्ट्रीय खेल दिवस पर कविता - National Sports Day Poem In Hindi

खेलों की दुनिया का जादू,
खेल हमें सिखलाते.
आओ बच्चों आज तुम्हे मैं,
एक बात बतलाऊं.
खेलों का कितना महत्त्व है?
यह तुमको समझाऊं.
खेलों से सब कुछ मिल सकता,
हमको हँसते गाते.
खेल…
खेल-खेल में सारे बच्चे,
सेहत खूब बनाते.
उछल कूद कर मस्ती करते,
जीवन का सुख पाते.
यह आनंद बिना पैसे का,
हम खेलों से पाते.
खेल…
खेल खेलने से ही बच्चों,
खेल भावना आती.
खेल-खेल में जीवन के सब,
बिगड़े काम बनाती.
हार जीत से उपर उठ कर,
हम आदर्श बनाते.
खेल…
रुपया-पैसा, धन-दौलत सब,
खेलों से मिल जाता.
सचिन घुमा कर अपना बल्ला,
लाखों लाख कमाता.
नाम और धन पाकर दोनों,
फूले नहीं समाते.
खेल…
खेलों की दुनिया का जादू,
खेल हमें सिखलाते.

National Sports Day Poem In Hindi for Kabaddi

राष्ट्रीय खेल दिवस पर अनमोल विचार – National Sports Day Quotes in Hindi

Ae Kabaddi tu jaan hai
Meri tujhi se to pehchan hai
Meri kabaddi tujhe samman na
Mila cricket jitna pehchan na
Mila tu khwabon ki wo rani hai
Apne desh ki kahani hai
Tu sabhyataon ki mail hai
Tu sanskritik wo is khel hai
Ae ish khel ke khiladi khilega
Tera chehra bhi tujhe bhi samman milega
Cricket jitna pehchaan milega
Kabaddi hamari shaan hai
Kabaddi hamari jaan hai
Yeh khel nahi hai bacchon ka isme
Dam nikal jata hai achche achchon ka.